काव्योदय

Saturday, August 20 2016

कुछ पल चुरा लेना काश! !! वो खुद आ जाता

उसने फूल भेजें हैं फिर मेरी अयादत को... एक एक पत्ती में, उन लबो की नरमी हैं उन ज़मील हाथों की, खुशगवार हिद्दत है उन लतीफ साँसो की, दिलनवाज़ खूशबू है दिल में फूल खिलते है , रूह में चरागां हैं जिन्दगी मुअत्तर है फिर भी दिल यह कहता है, बात कुछ बना लेना वक्त के खजाने से कुछ पल चुरा लेना काश! !! वो खुद आ  […]

Continue reading

Tuesday, March 22 2016

गिरकर सम्हलनें का नाम है जिन्दगी

गिरकर सम्हलनें का नाम है जिन्दगी सुख दुख की पाती सलाम है जिन्दगी ये जिन्दगी तो मौत की अमानत है चंद सांसो का एहतराम है जिन्दगी कुछ ख्वाब हैं जो सोने नही देते हमको अधुरे अरमानो का अंजाम है जिन्दगी आशा निराशा सुख दुख त्याग तपस्या कितनी ही बातों का इनाम है जिन्दगी जो भी है जैसी भी है मित्र कुबुल है माना  […]

Continue reading

Wednesday, February 3 2016

अपनापन

रामायण कथा का एक अंश, जिससे हमे सीख मिलती है "एहसास" की... आत्मीयता की...... श्री राम, लक्ष्मण एवम् सीता' मैया चित्रकूट पर्वत की ओर जा रहे थे, राह बहुत पथरीली और कंटीली थी ! की यकायक श्री राम के चरणों मे कांटा चुभ गया ! श्रीराम रूष्ट या क्रोधित नहीं हुए, बल्कि हाथ जोड़कर धरती माता से  […]

Continue reading

Tuesday, February 2 2016

जाने दो छोड़ो भी

भूखी प्यासी रहे जनता,चलो जाने दो छोड़ो भी किया है हाल चौपट सा,चलो जाने दो छोड़ो भी भरेंगे झोली अपनी ही,समय बस पाँच सालों का के मरती है मरे जनता चलो जाने दो,छोड़ो भी

Continue reading

छोड़ो भी

तमन्नाएँ मुरझा न जाए , ज़ग को लड़ना छोड़ो भी बरसाओ मत बिजलियाँ , गड गड़ाना छोडो भी गिर रहे ओंस बिन्दु पत्तों पर . धूप धवल हो रही परिवर्तन शाश्वत प्रकृति का ,खिझाना छोड़ो भी

Continue reading

- page 1 of 2

Page top


Vote For MyFunLibrary.Com
on Anime Sites and Forums

at Top Site List Planet

Click To Alot Of Fun And Earn More Money with fun