Friday, November 4 2016

एक बुन्देलीै रचना

एक बुन्देलीै रचना मुठिया हर को पकर के देखो , तनक किसानी कर के देखो ! चार कोष स्कूल हों जाने , लरका तनक पढ़ा के देखो ! नदियाँ नरबा बीच गैल में , बिना नाव के उतर के देखो ! बिटिया जा पढ़ लिख ने पाई , ये को ब्याह रचा के देखो ! धुतियाँ फट गई घरबारी की , मोल भाव बाजारी देखो ! क्वांर लगो बीमारी आई , तनक  […]

Continue reading

Wednesday, November 2 2016

वो मारने पे देख सरेआम तुल गया ॥

वो मारने पे देख सरेआम तुल गया ॥ मज़हब का रंग अब तो सियासत में घुल गया ॥ शायद हुआ है दोस्तों दुनिया में पहली बार ॥ लोहे का ताला लकड़ी की चाबी से खुल गया ॥ बिलाल सहारनपुरी मारे_गये_सिपाही_रमाकांत_को_सलाम  […]

Continue reading

Saturday, August 13 2016

"साफ़ दामन का दौर तो कब का खत्म हुआ साहब......

"साफ़ दामन का दौर तो कब का खत्म हुआ साहब...... अब तो लोग अपने धब्बों पे गरूर करने लगे हैं.."  […]

Continue reading

Wednesday, August 10 2016

Wo Shakhs Ke Jis Ko Dekhne Se Milta Tha Sakoon DiL Ko

Wo Shakhs Ke Jis Ko Dekhne Se Milta Tha Sakoon DiL Ko..! Na Jane Kyun Itna Qareeb Aa Kar Bichar Jaty Hain Log..!  […]

Continue reading

दो बेटियां रात को घर पे बस मेरा इंतजार करती हैं ।। MyFunLibrary.Com

वो न कभी रूठती हैं और न ही कभी तकरार करती हैं । दो बेटियां रात को घर पे बस मेरा इंतजार करती हैं ।। मम्मी की सच्ची झूठी शिकायत होती हैं कुछ बस्ते में, हाथ में आ छूट जाती हैं कभी महंगे में कभी सस्ते में, कभी पीछे मुड़ मुड़ देखती हैं वो चलते चलते रस्ते में दोनों ही फिर खो जाती हैं गुड मोर्निंग और  […]

Continue reading

- page 1 of 2

Page top


Vote For MyFunLibrary.Com
on Anime Sites and Forums

at Top Site List Planet

Click To Alot Of Fun And Earn More Money with fun